कांगड़ी धाम

कांगड़ी धाम एक पारंपरिक भोजन है | हिमाचल प्रदेश के व्यंजन मुख्य रूप से राज्य के जलवायु और स्थलाकृति पर आधारित है। जबकि रोजाना भोजन सामान्य दाल-चावल-सबजी-रोटी होता है, त्यौहार के अवसरों के दौरान विशेष व्यंजन पकाया जाता है। उत्सव के भोजन में, पारंपरिक भोजन, धाम (पारंपरिक अवसरों में दोपहर का भोजन) बनता है। पारंपरिक धाम बहुत उत्साह से बनाई जाती है। कांगड़ी धाम जिले के विभिन्न व्यंजनों से परिचित होने का अवसर प्रदान करती है।कांगड़ी धाम

कांगड़ी धाम केवल बोटीयों द्वारा पकाई जाती है (ब्राह्मणों की एक विशेष जाति जो वंशानुगत रसोईये हैं)। इस विस्तृत भोजन की तैयारी रात से पहले शुरू होती है। खाना पकाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले बर्तन आम तौर पर पीतल वाले होते हैं जन्हें चरोटी या बलटोई कहा जाता है । यह उन लोगों में परोसा जाता है जो ज़मीन पर बैठते हैं। भोजन पतलू नामक पत्तो की प्लेटों पर दिया जाता है (स्थानीय कांगड़ी भाषा में)। धाम में सादे सुगंधित चावल, तली हुई दालें या दाल, मधरा, राजमह, कड़ी, माह की दाल, चने का खट्टा, और अंत में मीठा भात (भात चावल को कांगड़ी भाषा में बोलते हैं ) परोसा जाता है|

धाम शादी, जन्मदिन की पार्टी, सेवानिवृत्ति पार्टी या किसी भी धार्मिक अवसरों पर कांगड़ी संस्कृति के लोगों के लिए दोपहर का भोजन है। धाम में सबसे पहले पके हुए चावल और मधरा जो सफ़ेद चने, राजमाह, या पनीर परोसा जाता है। उसके बाद फिर से चावल परोसे जाते है , और फिर कड़ी ,माह (तेली माह ) की दाल, खट्टा और अंत में मीठा भत (मीठे चावल) परोसे जाते हैं |