कांगड़ा तीर्थयात्रा

ब्रिजेश्वरी मंदिर

ब्रजेश्वरी मंदिरबृजेश्वरी का मंदिर, भारत के हिमाचल प्रदेश कांगड़ा जिले के कांगड़ा जिले में नगरकोट में स्थित है और कांगड़ा के नजदीकी रेलवे स्टेशन से 11 किमी दूर है। कांगड़ा किला पास स्थित है। एक पौराणिक कथा कहती है कि देवी सती के बाद भगवान शिव के सम्मान में अपने पिता यज्ञ में बलिदान किया था। शिव ने अपने शरीर को अपने कंधे पर ले लिया और तांडव शुरू कर दिया। उसे विश्व को नष्ट करने से रोकने के लिए भगवान विष्णु ने अपने चक्र के साथ सती का शरीर 51 भागों में विभाजित किया। सती के बायां स्तन इस स्थान पर गिर गए, इस प्रकार यह एक शक्ति पीठ बना। मूल मंदिर महाभारत के समय पांडवों द्वारा बनाया गया था। किंवदंती कहते हैं कि एक दिन पांडवों ने अपने स्वप्न में देवी दुर्गा को देखा था जिसमें उन्होंने उन्हें बताया कि वह नागराकोत गांव में स्थित है और यदि वे चाहते हैं कि वे स्वयं को सुरक्षित रखें तो उन्हें उस क्षेत्र में उनके लिए मंदिर बनाना चाहिए अन्यथा वे नष्ट हो जाएंगे। उसी रात उन्होंने नगरकोट गांव में उनके लिए एक शानदार मंदिर बनाया। यह मंदिर मुस्लिम आक्रमणकारियों द्वारा कई बार लूट लिया गया था। मोहम्मद गज्नेवी ने इस मंदिर को कम से कम 5 बार लूट लिया, अतीत में इसमें सोने का टन और शुद्ध चांदी से बनने वाले कई घंट थे। 1905 में मंदिर एक शक्तिशाली भूकंप से नष्ट हो गया और बाद में सरकार ने इसे फिर से बनाया।

ज्वालामुखी मंदिर

ज्वालामुखी मंदिरतीर्थ यात्रा का यह लोकप्रिय स्थान कांगड़ा से बहुत दूर नहीं है । पवित्रता में खोखले चट्टान से निकलने वाली एक सदाबहार लौ, देवी की अभिव्यक्ति माना जाता है हर साल मार्च-अप्रैल और सितंबर-अक्टूबर के दौरान नवरात्रि उत्सव के दौरान यहाँ  मेले आयोजित होते हैं। कांगड़ा में सबसे प्रसिद्ध ज्वाला जी मंदिर हिमाचल प्रदेश राज्य के कांगड़ा जिले के ज्वालामुखी शहर में निचले हिमालय में स्थित है, जो धर्मशाला से लगभग 55 किलोमीटर दूर है। ज्वालाजी एक हिंदू देवी है। ज्वालाजी  ज्वाला देवी और ज्वालामुखी के नाम से भी जानी जाती है। ऐतिहासिक रूप से, ज्वाला जी को समर्पित मंदिर में माँ सती की जीभ गिरी थी | इस मंदिर में माता के दर्शन ज्योति रूप में होते है। ज्वालामुखी मंदिर के समीप में ही बाबा गोरा नाथ का मंदिर है। जिसे गोरख डिब्बी के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर का प्राथमिक निमार्ण राजा भूमि चंद ने करवाया था। बाद में महाराजा रणजीत सिंह और राजा संसारचंद ने 1835 में इस मंदिर का पूर्ण निमार्ण कराया। मंदिर के अंदर माता की नौ ज्योतियां है जिन्हें, महाकाली, अन्नपूर्णा, चंडी, हिंगलाज, विंध्यावासनी, महालक्ष्मी, सरस्वती, अम्बिका के नाम से जाना

बैजनाथ मंदिर

शिव मंदिर बैजनाथ मंदिर, अहयूक और म्यूक  नामक दो स्थानीय व्यापारियों द्वारा 1204 में बनवाया गया। मंदिर के प्रांगण में विद्यमान दो लम्बे शिलालेखों से संकेत मिलता है कि शिव का मंदिर उसी स्थान पर बना है जहाँ पर पौराणिक मंदिर पांडवों ने अज्ञातवास के दौरान निर्माण करवाया गया था। वर्तमान मंदिर प्रारंभिक मध्ययुगीन उत्तर भारतीय मंदिर वास्तुकला का एक सुंदर उदाहरण है जिसे मंदिरों की नागाारा शैली कहा जाता है। मंदिर शिवलिंग के स्यंभू रूप मे निहित है। पवित्र स्थान का प्रवेश मुख्य द्वार के मध्य से होता है जिसमें एक बड़ा वर्गाकार मंडपा है जहाँ नंदी बैल विराजमान है। मंदिर के चारों और सुन्दर बगीचा है। दशहरा का उत्सव, जो परंपरागत रूप से रावण का पुतला जलाने के लिए मनाया जाता है, लेकिन यहाँ बैजनाथ में इसे रावण द्वारा की गई भगवान शिव की तपस्या ओर भक्ति करने के लिए सम्मान के रूप में मनाया जाता है। बैजनाथ के शहर के बारे में एक और दिलचस्प बात यह है कि यहाँ सुनार की दुकान नहीं है। मंदिर के साथ बहने वाली विनवा खड्ड पर बने खीर गंगा घाट में स्नान का विशेष महत्व है। श्रद्धालु स्नान करने के उपरांत शिवलिंग को पंचामृत से स्नान करवा कर उस पर बिल्व पत्र, फूल, भांग, धतुरा इत्यादि अर्पित कर भोले नाथ को प्रसन्न करके अपने कष्टों एवं पापों का निवारण कर पुन्य कमाते हैं।

चामुंडा देवी मंदिर

चामुंडा देवी मंदिरचमुंडा देवी मंदिर हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में है। यह पालमपुर से लगभग 10 किमी पश्चिम में बनेर नदी पर है। करीब 400 साल पहले राजा और एक ब्राह्मण पुजारी ने मंदिर को आसानी से सुलभ स्थान पर ले जाने के लिए अनुमति के लिए देवी से प्रार्थना की। देवी ने एक सहमति में पुजारी को अपनी सहमति दे दी और पुजारी को एक निश्चित स्थान में खोदने के लिए निर्देश दिया और कहा एक प्राचीन मूर्ति मिल जाएगी जिसे मंदिर में स्थापित कर देना। राजा ने मूर्ति को लाने के लिए पुरुषों को भेजा, हालांकि वे इसे ढूंढने में तो सक्षम थे लेकिन इसे उठा नहीं सके। एक बार फिर देवी सपने में पुजारी को दिखाई दी और उसने समझाया कि पुरुष पवित्र अवशेष को नहीं उठा सकते क्योंकि वे इसे एक साधारण पत्थर मानते हैं। देवी ने उसे सुबह सुबह उठने, स्नान करने, साफ़ कपड़े पहने और सम्मानजनक तरीके से जगह पर जाने के निर्देश दिए। पुजारी ने वैसा ही किया और वह उस मूर्ति को उठा कर स्थापित किया। यह देख कर सब हैरान थे तब उसने बताया कि यह देवी की ही शक्ति है जो वह मूर्ति स्थापित कर सका।

मसरूर

मसरूर मंदिरमसरूर रॉक कट मंदिर काँगड़ा जिले में स्थित एक जटिल मंदिर है, जो कांगड़ा शहर से 40 किलोमीटर दूर है। यह अब ‘ठाकुरवाड़ा’ के नाम से जाना जाता है, जिसका अर्थ है “वैष्णव मंदिर। यह शास्त्रीय भारतीय वास्तुकला शैली की शिखर (स्थापना का टॉवर) शैली में, पत्थर के चट्टानों के कालीन मंदिरों का एक परिसर है, जो कि कला इतिहासकारों द्वारा 6-8 वीं शताब्दियों तक दर्ज किया गया था। भारत में कई जगह हैं जहां रॉक-कट स्ट्रक्चर मौजूद हैं परन्तु ऐसा एक वास्तुशिल्प मंदिर उत्तरी भाग के लिए अद्वितीय है भारत के पश्चिमी और दक्षिणी में इस इमारत के सामने मसरूर झील है, जिसमे मंदिर का प्रतिबिम्ब दिखता है। माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण पांडवो द्वारा अपने अग्यात्वास के दोरान किया था। कहा जाता है कि मंदिरों के सामने झील को पांडवों ने अपनी पत्नी द्रोपदी के लिए बनवाया गया था। कांगड़ा जिला में चट्टान को काट कर पहाड़ की चोटी पर बने इन मंदिरों को सर्वप्रथम 1913 में एक अंग्रेज एचएल स्टलबर्थ ने खोजा था। यहां कुल 15 मंदिर समूह हैं। मुख्य मंदिर को ठाकुरद्वारा कहा जाता है और इसमें तीन राम, लक्ष्मण और सीता की पत्थर की मूर्तियां हैं

भागसु नाग मंदिर

भागसू नाग मंदिरभागसु नाग मंदिर भगवान शिव का मंदिर मक्लोटगंज बाजार से लगभग 2 किमी दूर स्थित है। लगभग 1800 शताब्दी के दौरान 1 जीआर द्वारा तैयार किया गया और उसके बाद धर्मशाला में 14 गोरखा  प्लाटून और गाँव वासियों ने प्रमुख रूप से पूजा की। बहुत भाग्यगुनग मंदिर के बगल में एक जल गिरना है, धर्मशाला में एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण स्थान है। मंदिर की कहानी बहुत दिलचस्प है, यह कहा जाता है कि भागसु एक राजा या एक स्थानीय प्रमुख था, और उनके क्षेत्र सूखे से ग्रस्त था। तब उसने अपने लोगों से वादा किया की वह इस समस्या का हल करेगा। इसके लिये वह पहाड़ो पर नाग डल झील पर गया जो की नागों की झील थी। भागसू एक तांत्रिक भी था उसने नाग डल झील के पानी को एक कमंडल में डाल लिया और झील सूख गई यह देख नाग देवता और भागसू का युद्ध हुआ जिस दौरान भागसू के हाथ से कमंडल छूट गया और पानी पहाड़ो से होकर नीचे बहने लगा। भागसू गंभीर रूप से घायल हो गया उसने नाग देवता से माफ़ी मांगी और कहा कि पानी को ऐसे ही बहने दो ताकि गाँववासीयो का सूखा ख़तम हो जाये। तब से इस स्थान को भागसू नाग के नाम से जाना जाता है।

कुणाल पथरी

कुनाल पथरी मंदिरकुणाल पथरी कांगड़ा जिले के सुंदर धौलाधर पर्वत के तले देवी दुर्गा को समर्पित एक छोटा सा मंदिर है, यह प्राचीन मंदिर घने चाय बागानों से घिरा है और यह एक लंबी शांतिपूर्ण यात्रा के लिए सही स्थान है। रसीला परिवेश मंदिर देवताओं और देवी की उत्कृष्ट नक्काशी दिखाता है ऐसा कहा जाता है कि मंदिर में एक पत्थर है जो हमेशा गीला रहता है। पौराणिक कथाओं के अनुसार 51 शक्तिपीठों में से यह शक्तिपीठ मां सती के अंगों में से एक है। मां सती का यहां पर कपाल गिरा था, और यह शक्तिपीठ मां कपालेश्वरी के नाम से विख्यात हुआ। मां सती ने पिता के द्वारा किए गए शिव के अपमान से कुपित होकर पिता राजा दक्ष के यज्ञ कुंड में कूदकर प्राण त्याग दिए थे, तब क्रोधित शिव उनकी देह को लेकर पूरी सृष्टि में घूमे। शिव का क्रोध शांत करने के लिए भगवान विष्णु ने चक्र से माता सती के शरीर के टुकड़े-टुकड़े कर दिए। शरीर के यह टुकड़े धरती पर जहां-जहां गिरे वह स्थान शक्तिपीठ कहलाए। मान्यता है कि यहां माता सती का कपाल गिरा था इसलिए यहां पर मां के कपाल की पूजा होती है।। मंदिर की ओर जाने वाली सड़क जंगलों और चाय बागानों के माध्यम से जाती है और मंदिर परिसर के आकर्षक परिवेश, अति सुंदर डिजाइन और जादुई वातावरण हर दिन बहुत से पर्यटकों को आकर्षित करते हैं।

 बगलामुखी मंदिर

बगलामुखी माताबगलामुखी या बागला हिंदू धर्म में 10 महाविद्यायों में से एक है। बगलामुखी देवी अपने भक्तों की गलतफहमी और भ्रम (या भक्त के दुश्मन) को अपने खडग से दूर करती है। इसके अलावा उत्तर भारत में इन्हें पितम्बारा माँ के नाम से भी बुलाया जाता है। कांगड़ा के निकट कोटला किले के द्वार पर बगलामुखी का मंदिर स्थित है। यह माना जाता है कि बगलामुखी मंदिर में हवन करवाने का विशेष महत्व है, जिससे कष्टों का निवारण होने के साथ-साथ शत्रु भय से भी मुक्ति मिलती है। द्रोणाचार्य, रावण, मेघनाद इत्यादि सभी महायोद्धाओं द्वारा माता बगलामुखी की आराधना करके अनेक युद्ध लड़े गए। नगरकोट के महाराजा संसार चंद कटोच भी प्राय: इस मंदिर में आकर माता बगलामुखी की आराधना किया करते थे, जिनके आशीर्वाद से उन्होंने कई युद्धों में विजय पाई थी। तभी से इस मंदिर में अपने कष्टों के निवारण के लिए श्रद्धालुओं का निरंतर आना आरंभ हुआ और श्रद्धालु नवग्रह शांति, ऋद्धि-सिद्धि प्राप्ति सर्व कष्टों के निवारण के लिए मंदिर में हवन-पाठ करवाते हैं।

नागानी माता

नागनी माता मंदिरपठानकोट/मनाली राजमार्ग पर नूरपुर शहर से लगभग 6 किमी दूर स्थित नागानी माता मंदिर भी बहुत प्रसिद्ध है। यह अद्वितीय है क्योंकि मंदिर से नीचे पानी आता है जहां नागनी माता की मूर्ति है। जिन लोगों को साँप काट लेते हैं वह माता के पास आते हैं और बस पीने के पानी और मिटटी को लगा कर पूरी तरह से ठीक हो जाते हैं। वहां बहते हुई पानी की मात्रा काफी पर्याप्त है, और अनाज पीसने वाली मिलों (घराट)की संख्या भी वहुत ज्यादा है। सांप द्वारा काटा गया कोई भी व्यक्ति नागणी के मंदिर से तब तक वापिस नहीं जा सकता जब तक कि पुजारी आज्ञा प्रदान न करे। इसमें से कुछ एक रोगी अपने आप को ठीक समझ कर पुजारी के बिना आज्ञा से घर चले जाते हैं परन्तु उन्हें घर पहुंचने से पहले ही सांप के जहर का असर दिखाई देने लगता है और शरीर में सूजन आने लगती है। रोगी के ठीक होने से आमतौर पर महीना या दो महीनें भी लगते है। कुछ तो एक सप्ताह से भी कम समय में ठीक होकर अपने घर चले जाते हैं।