साहसिक पर्यटन

पैरा ग्लाइडिंग

पैरा ग्लाइडिंग बीड बिलिंगपैरा ग्लाइडिंग बीड बिलिंग जिला कांगड़ा

बीड बिलिंग एक छोटे सा गांव है जो हिमाचल प्रदेश में पैराग्लिडिंग के लिए प्रसिद्ध बड़े पहाड़ों से घिरा हुआ है। यह हैंग ग्लाइडिंग और पैराग्लाइडिंग दोनों के लिए जाना जाता है। धौलाधार पर्वत श्रृंखला में बीड-बिलिंग दुनिया की बेहतरीन एयरो स्पोर्ट्स साइटों में से एक के रूप में जाना जाता है।

धौलाधर पर्वत पर 2,400 (8500 फीट) पर उनका लॉन्चिंग साईट ‘बिलिंग’ है और लैंडिंग साईट बीड यहाँ से 14 किमी की दूरी पर है। बीड बिलिंग प्रकृतिक चमत्कारों में से एक है। यह पूरी तरह से लॉन्च पैड के रूप में डिज़ाइन किया लगता है, अंतरराष्ट्रीय पैराग्लाइडिंग सर्किट और विश्व चैंपियन पैराग्लाइडिंग पायलटों के लिए एक गंतव्य पर एक किंवदंती बन गया है। बीड और चोगान के गांवों से सीधे हरी घास का मैदान दुनिया की सबसे अच्छी ग्लाइडिंग साइटों में से एक है । विशाल धौलाधर पर्वत श्रृंखला और इसके मनोरम दृश्यों के साथ नीचे कांगड़ा घाटी के लिए उड़ान भरने के अवसर प्रदान करती है।

बीर बिलिंग हिमाचल प्रदेश में पैराग्लाइडिंग के लिए बेहतरीन साइट है और भारतीय और विदेशी पायलटों दोनों के बीच लोकप्रिय है। इस क्षेत्र में सबसे अच्छा उड़ान मौसम सितंबर से नवंबर है, लेकिन मौसम के आधार पर साल भर लगभग खुला रहता है। प्रशिक्षण सुविधाओं के विवरण के लिए, खेल संगठनों से संपर्क करें या धर्मशाला में जिला पर्यटन विकास कार्यालय। फोन: 01892-224430

 मैक्लोडगंज -त्रिउंड (2875 एम) 9 किमी ट्रेक

त्रिउंड ट्रेक जिला कांगड़ा

त्रियुंड धर्मशाला का मुकुट है, धौलाधार के पहाड़ों की गोद में स्थित है, इसके एक तरफ से धौलाधार के पहाड़ और दूसरी तरफ कांगड़ा घाटी नजर आती है। त्रियुंड एक बहुत लोकप्रिय ट्रैकिंग स्थान है त्रियुंड भारत और दुनिया भर से हर साल बहुत से पर्यटकों को आकर्षित करता है| त्रियुंड ट्रेक को एक शांत ट्रेक के रूप में वर्णित किया जा सकता है जिसे लगभग सभी आयु वर्गों द्वारा आसानी से पूरा किया जा सकता है। त्रियुंड एक अनोखा रास्ता है जो ओक, देवदार और गुरांस (रोडोडेंड्रोन) के सुंदर मिश्रित जंगल के मध्य से होके जाता है। पहले पांच किलोमीटर के लिए रास्ता काफी आसान है, लेकिन अंतिम एक किलोमीटर के रस्ते लिए परिश्रम की आवश्यकता हो सकती है, आखिरी एक किलोमीटर को लोकप्रिय रूप से “22 मोड़” कहा जाता है क्योंकि इसमें 22 छोटे बड़े मोड़ हैं| त्रियुंड में एक विश्राम गृह भी है जो जंगलात विभाग(पर्यावरणीय पर्यटन) के अंतर्गत आता है, ट्रैकर यहाँ रात भी बिता सकते हैं, या अपने टेंट लगा कर भी प्रकृति का आनंद ले सकते हैं| त्रियुंड ट्रेक की शुरुआत गलू से होती है या आप मक्लोडगंज से भी अपना ट्रेक शुरू कर सकते हैं|

इंद्रहार पास

इन्द्र्हार पास काँगड़ाइंद्रहार पास हिमालय की धौलाधर पर्वत श्रृंखला में पर्यटक शहर धर्मशाला के नज़दीक समुद्र तल से 4,342 मीटर (14,245 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है। इंद्रहार पास कांगड़ा और चंबा जिलों के बीच सीमा बनता हैं। यह धर्मशाला के एक बहुत ही लोकप्रिय ट्रेकिंग मार्ग का हिस्सा है। इसमें जाने केलिए मई से अक्टूबर के महीने सबसे अच्छे ट्रेकिंग सीजन हैं। इंद्रहार के लिये मार्ग मक्लोड़गंज से शुरू होता है और फिर धर्मकोट-त्रिउंड-लाका-लाहेसा गुफा- इंद्रहार टॉप-चट्टा पारो-कुवार्सी-लामू-चोली (राओद) से होके जाता है। ट्रेकिंग धर्मकोट से त्रिउंड की तरफ शुरू होती है। त्रिउंड ट्रेक खड़ी ढाल है और गुरांस (रोड़ोडेन्द्रन)और बन्न के घने जंगल के मध्य से गुज़रती है। ट्रेकिंग को लगभग 4 घंटे लगते हैं। आप खूबसूरत धौलाधर पर्वत और कंगड़ा घाटी के विहंगम दृश्य को त्रिउंड से देख है। फिर त्रिउंड पहाड़ी से लका गोत तक एक और छोटी सी यात्रा हैं । कोई भी लाका में अपने नीजी तम्बुओं मे रात गुज़ार सकता है ,क्योंकि आगे की ऊंचाई घडी होने के कारण उसे अनुकूलन बनाने के लिए यह पड़ाव अति महत्वपूर्ण है।

सुबह आप इंद्रहार पास ट्रेक के लिए अपनी यात्रा शुरू कर सकते है। इंद्रहर पास से केंद्रीय हिमालय की पीर पंजाल रेंज की राजसी चोटियों के अद्भुत दृश्य का आनंद ले सकते हैं।

इंद्रहर पास पार करने के बाद ट्रेकिंग मार्ग चट्टा पारोआ तक एक खड़ी उतराई है, और फिर कोई मंडारा के माध्यम से कुवार्सी के खूबसूरत गांव तक पहुंचने के लिए आगे बढ़ सकता है जो कि 2730 मीटर की ऊंचाई पर है और फिर आगे लामू और फिर चोलि गांव की ओर आगे बढ़ता है और वहां से कोई चंबा शहर जा सकता है।

राजगुन्धा ट्रेक

राजगुंधा घाटी

राजगुंधा, जिसे अक्सर उत्तरी भारत में घाटियों के दिल के रूप में जाना जाता है। यह घाटी धौलाधर पर्वत श्रृंखलाओं की तलहटी में स्थित है और इसमें बहुत अधिक बर्फीले पहाड़ हैं। पहाड़ी का शीर्ष समुद्र तल से लगभग 2400 मीटर ऊंचा है। शीर्ष पर पहुंचने से आपको काफी लंबी दूरी तक सबसे अच्छा दृश्य मिल जाता है। यह घाटी ट्रेकिंग, कैंपिंग और एनलिंग के लिए अच्छी तरह से जाना जाती है। साथ ही, यह एक ऐसा स्थान है जहां आप वास्तविक प्रकृति और वन्यजीवन का अनुभव कर सकते हैं। जिस घाटी के बारे में हम बात कर रहे हैं वह जीवन से धन्य है जहां कोई सकारात्मक ऊर्जा की बहुतायत महसूस कर सकता है। हरे रंग के ट्रेकिंग ट्रेल्स, शांत पर्वत धाराओं और आकाश छूने वाली पहाड़ियों ने पूरे इलाके को घेरा हुआ है। यह पर्यटकों में अपनी सुंदरता और शांति के कारण सबसे पसंदीदा ट्रेकिंग मार्गों में से एक है। राजगुंधा में ट्रेकिंग 16 किलोमीटर से अधिक लंबी है जो दो सड़कों के सिर को जोड़ती है और इसे एक दिन या 2 में कवर किया जा सकता है। ट्रेकिंग अनुभव गांव जीवन शैली, प्रकृति, जंगली जीवन और स्थानीय संस्कृति के स्नैपशॉट प्रदान करता है। इतना ही नहीं, पर्यटकों को कैंपिंग और एनलिंग जैसे साहसी गतिविधियों को पूरा करना पसंद है।

राजगुंधा में वनस्पतिराजगुंधा और कुकरगुंधा घाटी के चारों ओर अद्भुत प्राकृतिक दिर्श्य और प्रेमपूर्ण वातावरण हैं। यह घाटी पक्षियों और वन्यजीवन का घर है। यहाँ गोभी और आलू की फसल बहुतायत में उगाई जाती है। यह सर्दियों में अत्यधिक ठंडी हो जाती है। इसलिए, ग्रामीण अपने पशुओं के साथ सर्दियों में बर्फ और ठंड से बचाने के लिए निचली जगहों पर चले जाते हैं। यहां के घर आगंतुकों के लिए एक आकर्षणका का केंद्र हैं। वे पत्थर और मिट्टी का उपयोग कर पुराने पारंपरिक तरीके से बनाए जाते हैं।